आज, हम सर्च इंजन के लिए आपको केवल वेबसाइट का एक पेज ही नहीं बल्कि पूरी वेबसाइट को
अनुकूलित करने के बारे में बताएंगे। सही एसईओ कीवर्ड चुनने और कंटेंट लिखने से पहले, ऐसी बहुत सारी
चीज़े है जो आपको ध्यान में रखना चाहिए जिससे आपकी वेबसाइट जल्दी रैंक कर सकेगी।

दोस्तों लिंक बिल्डिंग (link building in hindi) शुरू करने से पहले आपको निम्नलिखित बातो पर गौर करने
की आवश्यकता है:
आपकी साइट किस बारे में है: आपकी वेबसाइट का टॉपिक क्या है ? हेल्थ, बिज़नेस, फाइनेंस या
फिर जनरल टॉपिक।
वेबसाइट का उद्देश्य क्या है: आपकी वेबसाइट का उद्देश्य आपको कीवर्ड रिसर्च एंड लिंक बिल्डिंग में
बहुत सहायता करेगा | जैसे वेबसाइट के ज़रिये आप लोगो को टिप्स देना चाहते है, अपना व्यापर
प्रमोट करना चाहते है या फिर लोगो को कुछ सर्विसेस देना चाहते है।

मार्केट में मौजूद बहुत सारी एसईओ टेक्निक्स के चलते यह निर्धारित करना लगभग असंभव है कि किन
टेक्निक्स का इस्तेमाल कर के आपको इंस्टेंट रिजल्ट मिलेंगे और किन टेक्निक्स को आपको इग्नोर करना
चाहिए।

Search engine optimization (SEO) in hindi

वास्तव में, अगर विभिन्न खोज इंजनों के लिए वेबसाइट का अनुकूलन यदि अच्छी तरह से किया जाता है (जैसे
गूगल, बिंग, याहू), तो SERPs (खोज इंजन परिणाम पृष्ठ) में वेबसाइट की विज़िबिलिटी में सुधार हो सकता है।
यदि आप इन तकनीकों पर ध्यान देते हैं, तो आप निश्चित रूप से अपनी वेबसाइट पर अधिक Organic
ट्रैफ़िक ला सकते हैं और Google पेनल्टी से बचकर अपनी कीवर्ड रैंकिंग में सुधार कर सकते हैं।

वेबसाइट लोड समय (website load time in Hindi):

इसका मतलब यह है कि यदि आपकी वेबसाइट धीरे लोड होती है, तो वेबसाइट आर्गेनिक सर्च रिजल्ट्स में नहीं दिखेगी। अपनी वेबसाइट में use होने वाली इमेज को ऑप्टिमाइज़ कीजिये, इस्तेमाल में न आ रहे कोड को रिमूव कीजिये इससे आपकी वेबसाइट की स्पीड में काफी सुधार आएगा।

On page SEO in hindi:

On page SEO में वो साडी चीज़े आती है जिससे आप अपनी वेबसाइट को आसानी
से सर्च इंजन में रैंक करा सके। इसमें वेब पेजेज क लिए मेटा टाइटल/डिस्क्रिप्शन , इमेजke लिए ऑल्ट टैग्स,
इंटरनल लिंकिंग जैसी चीज़ो पर ध्यान दिया जाता है | On page SEO में सबसे महत्वपूर्ण है कीवर्ड रिसर्च।
On page SEO में पेज को कुछ ऐसे सेट किया जाता है जिससे वो सर्च रिजल्ट के टॉप पेज में दिखाई दे ।

अन्य वेबसाइटों से लिंक करना:

ज्यादातर लोग समझते है की अपनी वेबसाइट को किसी और की वेबसाइट से लिंक करना बुरा है क्योंकि यह लोगों को डाइवर्ट कर देता है। लेकिन, ये लिंक बिल्डिंग तकनीक खोज इंजन अनुकूलन रणनीति का एक मूलभूत हिस्सा है | यदि आप कुछ अच्छी DA स्कोर वाली वेबसाइट (shoutmeloud.com) पर कंटेंट सबमिट करते है और इस कंटेंट में अपनी वेबसाइट की एक हाइपरलिंक (कीवर्ड के माद्यम से) देते है तो इससे आपकी वेबसाइट को बहुत फायदा पहुँचता है |

Google Analytics in Hindi:

Google analytics website owners के लिये एक बहुत ही
महत्वपूर्ण टूल है l इस टूल की मदद से आप अपनी website पर आने वाले सभी विज़िटर्स की
जानकारी प्राप्त कर सकते है l इस जानकारी के इस्तेमाल से हम आप वेबसाइट की search engine
ranking को बढ़ा सकते हैं। आप देख सकते है की यूजर किस लोकेशन, माध्यम से आपकी
वेबसाइट विजिट कर रहा है। आपकी वेबसाइट पर कितने यूजर आए है |

URL structure in Hindi:

URL structure optimization एक बहुत ही आसान तरीका है जिससे
आप अपने कंटेंट को और अधिक SEO friendly बना सकते है और यह सर्च इंजन को कंटेंट बेहतर
तरीके से समझने और रैंक करने में मदद करता है। हो सके तो यूआरएल स्ट्रक्चर में ?*&#@ ऐसे
सिंबल इस्तेमाल न करे | किसी पेज को टारगेट करते हुए कीवर्ड आप URL में इस्तेमाल कर सकते है
जिससे पेज जल्दी रैंक हो।

इन आसान SEO tips Hindi ko फॉलो कर के आप अपनी वेबसाइट को जल्दी रैंक करा सकते है | More SEO Posts Read: 10 SEO Tips in Hindi

Author Bio:- मेरा नाम विशाल है, में khabarinhindi.com पर कई दिनों से blogging कर रहा हूँ। जो एक
बहुत ही प्रसिद्ध हिंदी ब्लॉग है। जिसमे स्वास्थ और फिटनेस से संबधित जानकारी बहुत ही आसान तरीके
से समझाई गई है। यह जानकारी आप के अच्छे स्वास्थ के लिए बहुत ही लाभकारी हो सकती है।

Share: